एसईसीएल में ”ए स्टेप टूवर्डस् डाइवरसिटी एण्ड इन्क्लूजन“ विषय पर कार्यशाला सम्पन्न

Workshop on “A Step Towards Diversity and Inclusion” concluded in SECL

बिलासपुर (mediasaheb.com) | एसईसीएल मुख्यालय बिलासपुर में दिनांक 19.09.2022 को वूमेन इन पब्लिक सेक्टर (विप्स) का ”ए स्टेप टूवर्डस् डाइवरसिटी एण्ड इन्क्लूजन“ विषय पर कार्यशाला मुख्य अतिथि अध्यक्ष सह प्रबंध निदेषक डॉ. प्रेम सागर मिश्रा, विषिष्ट अतिथि निदेशक तकनीकी (संचालन) सह कार्मिक श्री एम.के. प्रसाद एवं निदेशक तकनीकि (योजना/परियोजना) श्री एस.के.पाल, वाह्य अतिथि सुश्री आहूति सुवैन महाप्रबंधक (कार्मिक) बीसीसीएल एवं निदेशक (कार्मिक) ईसीएल नियुक्त एवं वाह्य प्रशिक्षक श्रीमती नम्रता चड्डा स्टेट एडवाईजरी बोर्ड मेम्बर एवं स्टेट कमिशन फॉर वूमेन ओडिसा मेम्बर एवं विप्स के सदस्याओं की उपस्थिति में मुख्यालय प्रागंण स्थित सीएमडी सभाकक्ष में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में सर्वप्रथम अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक, निदेशक तकनीकी (संचालन) सह कार्मिक, निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना), एवं विप्स के सदस्यों द्वारा सुश्री आहूति सुवैन का स्वागत किया गया।

इस अवसर पर अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक डॉ प्रेम सागर मिश्रा ने कहा महिलाएँ राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही हैं। उन्होंने पूर्व और वर्तमान समय के परिप्रेक्ष्य में महिलाओं की शिक्षा, नौकरी आदि विषयों पर आनुपातिक विश्लेषण करते हुए बताया कि आज समाज व राष्ट्र की उन्नति में महिलाओं की सशक्त भूमिका है। सभी क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका पूर्व से बेहतर है। उन्होंने कहा हमें योग्यता एवं ज्ञान को प्रोत्साहित करना चाहिए न कि हमें किसी को उसके आचरण, लिंग के आधार पर आँकलन करना चाहिए। उन्होनें उपस्थित सदस्याओं से ज्ञान अर्जन कर अपने आपको को अपडेट रखने व ज्ञान में वृद्धि रखने का आव्हान किया। 

निदेशक तकनीकी (संचालन) सह कार्मिक श्री एम.के.प्रसाद ने कहा कि आदि काल से भारतीय समाज में महिलाए समाज व देश को सामाजिक एवं आर्थिक सुदृढ़ता प्रदान करने में अपनी महती भूमिका निभाती चली आ रही है। आज की मातृ शक्ति घर-परिवार के साथ ही घर से बाहर निकलकर विभिन्न प्रकार की कार्य कर समाज के उत्थान में अपना सक्रिय सहयोग प्रदान कर रही हैं और स्वयं सहित अपने परिवार को भी आर्थिक , सामाजिक रूप से सुदृढ़ कर रही हैं जो कि अत्यंत ही हर्ष का विषय है।

निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना) श्री एस.के.पाल ने कहा कि वर्तमान काल में महिलाएँ पुरूषों से कंधा से कंधा मिलाकर हरेक क्षेत्र में कार्य कर रही हैं जो कि समाज की प्रगति का सूचक है। उन्होंने कोल इंडिया एवं अन्य सीपीएसई सेक्टरों में कार्यरत् समस्त महिलाओं की उपलब्धियों व कार्यशैली की सराहना की। सुश्री आहूति सुवैन, जो कि पूरे कोल इंडिया परिवार की प्रथम महिला है, का चयन पीएसईबी द्वारा निदेशक (कार्मिक), ईसीएल हेतु किया गया है । इन्होंने सीसीएल एवं बीसीसीएल के विभिन्न विभागों एवं ईकाईओं में अपनी सेवाएं दी है तथा कोल इंडिया में कुल 35 वर्षों का अनुभव रहा है ने अपने को कैसे अपडेट रखते हुए सफलतापूर्वक अपने लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं पर अपने अनुभवों से विस्तृत प्रकाश डाला।

श्रीमती कीर्ती तिवारी महाप्रबंधक (सिविल), सीजेबी मेंम्बर विप्स ने स्वागत उद्बोधन प्रस्तुत किया एवं विप्स के सिद्धांतो, कार्यप्रणालियों से उपस्थितों को अवगत कराया। कार्यशाला के द्वितीय सत्र में वाह्य प्रशिक्षक श्रीमती नम्रता चड्डा ने महिलाओं द्वारा कार्यस्थलों एवं विविध स्थलों पर किस प्रकार से सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक बाधाओं से निपटा जाए पर विस्तृत प्रकाश डाला। उन्होंने किसी भी प्रकार का भेदभाव न अपनाते हुए एक सुदृढ़ व सशक्त समाज निर्माण पर जोर दिया।

इस कार्यशाला में एनटीपीसी, सीएमपीडीआईएल, ईसीएल, एमसीएल एवं एसईसीएल के क्षेत्रों से बडी संख्या में महिलाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम में उद्घोषणा का दायित्व डॉ. संजीवनी पाणिग्रही मेडिकल आफिसर एसईसीएल ने निभाया जबकि अंत में श्रीमती शैलजा दाभाड़े़ सचिव विप्स द्वारा धन्यवाद ज्ञापन दिया गया। कार्यक्रम के सफल आयोजन में नमिता दीक्षित, रूपल चतुर्वेदी] वीणा सिंह] जया, पापिया, रीना, प्रिया सहित समस्त विप्स सदस्याओं का सक्रिय योगदान रहा।