मानसिक गुलामी के भाव को देश से निकालना आवश्यक : शिवराजसिंह चौहान

It is necessary to remove the feeling of mental slavery from the country: Shivraj Singh Chouhan
  • मध्यप्रदेश में हिन्दी में पढ़ाए जाएंगे पाठ्यक्रम
  • देश-विदेश के हिन्दी सेवी हुए सम्मानित

भोपाल, (mediasaheb.com) । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हिन्दी का प्रयोग न करने या कम प्रयोग करने का कार्य एक तरह की मानसिक गुलामी का प्रतीक भी है। इस भाव को देश से बाहर निकालना आवश्यक है। हिन्दी के साथ ही हमारे देश में अनेक भाषाएं हैं। इनके उपयोग के साथ ही राजभाषा में पूरा कामकाज किए जाने की आवश्यकता है। मध्यप्रदेश में हिन्दी को भरपूर प्रोत्साहन दिया गया है। सहज और सरल हिंदी का उपयोग करने में कोई संकोच नहीं होना चाहिए।

मुख्यमंत्री चौहान बुधवार देर शाम हिंदी दिवस पर भोपाल के रवीन्द्र भवन में हिंदी भाषा सम्मान अलंकरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने देश-विदेश के हिंदी सेवियों को सम्मानित भी किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिंदी का उपयोग करने में हमें पीछे नहीं रहना चाहिए। खुल कर हिंदी बोलें। अपने घर में भी अधिक से अधिक हिंदी का उपयोग करें। परिवार के सदस्य हिंदी बोलने में कंजूसी न करें और अंग्रेजी के शब्दों के बोझ से अपनी आत्मा को न दबाएँ। उन्होंने कहा कि उन्होंने संसद में भी अनेक सांसद को अंग्रेजी में अपनी बात कहते देखा है। शायद वे मानते हैं कि अंग्रेजी बोलेंगे तो हमारा अलग रूतबा होगा।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में गांधी मेडिकल कालेज, भोपाल में चिकित्सा की पढ़ाई इसी सत्र से हिन्दी में प्रारंभ कर रहे हैं। साथ ही इंजीनियरिंग और विज्ञान तकनीकी से जुड़े अन्य पाठ्यक्रमों को भी हिंदी में पढ़ाने की शुरुआत राज्य में की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने अटल जी का स्मरण करते हुए कहा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी में संबोधन दिया था, जो किसी भारतीय राजनेता द्वारा प्रथम बार संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में दिया गया संबोधन था। उन्होंने हिन्दी का सम्मान बढ़ाया। हम सभी को हिन्दी पर गर्व करना चाहिए। हिन्दी हमारी मातृ-भाषा भी है। विदेशी भाषा को गर्व का विषय न बना कर हिन्दी को अपनी मातृ-भाषा बनाएँ। हिन्दी को प्रतिष्ठित करना हम सबका कर्तव्य है। हम मध्यप्रदेश में हिन्दी के प्रोत्साहन के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। हिन्दी दिवस मनाना कोई कर्मकांड नहीं है बल्कि एक संकल्प है। आज हम अपने जीवन में हिन्दी के प्रयोग और कामकाज में हिन्दी का ही उपयोग करने का संकल्प लें।

चौहान ने कहा कि हिन्दी अद्भुत भाषा है। हिन्दी मन है, प्राण है और आत्मा है। बिना हिन्दी के भारत के भावों का प्रकटीकरण नहीं हो सकता। यह बात कचोटती है कि आज हिन्दी भाषा सम्मेलन और हिन्दी दिवस कार्यक्रम करने होते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवीन शिक्षा नीति में हिन्दी और भारतीय भाषाओं को बढ़ावा दिया है। उन्होंने कहा कि अनुवाद की शुद्धता पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए। अक्सर विधेयकों की भाषा कोई समझ नहीं पाता। हिन्दी ने कुछ भाषाओं के शब्दों को भी आत्मसात कर लिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भी हिन्दी के प्रयोग को बढ़ाया जाए। किसी भी स्तर पर हिन्दी के प्रयोग में कंजूसी की आवश्यकता नहीं है। भारत का प्राचीन इतिहास देखें तो, हमने वेदों की रचना तब कर ली थी जब अनेक देशों में सभ्यता के सूर्य का उदय नहीं हुआ था। भारत ने वसुधैव कुटुम्बकम का विचार दिया। इसी तरह हिन्दी भारत से आगे जाकर संसार के अनेक देशों में बोली जा रही है। विश्व की सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में यह शामिल है। मध्यप्रदेश की धरती पर हिन्दी के प्रचार के लिए गंभीरतापूर्वक लगातार प्रयास होते रहेंगे।

गर्व से करें हिंदी का उपयोगः उषा ठाकुर

समारोह में संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि हम सब को गर्व से हिंदी भाषा का उपयोग करना चाहिए। हिंदी हमारी मातृ भाषा, पहचान और हमारी संस्कृति का प्राण है। हिंदी भाषा में करीब 50 लाख शब्द है। वर्णमाला के 52 अक्षरों के साथ हजारों पर्यायवाची शब्दों को समाहित करती हिंदी जैसी विश्व में कोई दूसरी भाषा नहीं है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में कराने के नवाचार के लिए मध्यप्रदेश की प्रशंसा की है। यह हमारे मुख्यमंत्री चौहान की हिंदी भाषा के प्रति समर्पण के भाव और उसके विकास के चिंतन का परिणाम है। उन्होंने कहा कि कितना अच्छा हो कि अगर हम एक नवाचार यह भी करें कि सड़कों पर दिशा बताने वाले और मार्गों के नामकरण के बोर्ड, दुकानों के साइन बोर्ड और चिकित्सकों के पर्चे और दवाओं के पैकेट आदि पर विवरण हिंदी में लिखा जाए। इससे न सिर्फ ग्रामीण जन को सुविधा होगी बल्कि हिंदी भाषा का व्यापक प्रचार-प्रसार भी होगा। यह हिंदी को जन-जन की भाषा बनाने में एक महत्वपूर्ण कदम होगा।(हि.स.)